Jim Jane ke fayede

एक्सरसाइज या व्यायाम करना स्वास्थ के लिए लाभदायक होता है, यह बात हर कोई जानता है। कई बार हम एक्सरसाइज से बचने के बहाने खोज लेते हैं, या फिर हजार बार सोचने के बाद भी उसे अपनी दिनचर्या का अनिवार्य अंग नहीं बना पाते। लेकिन हम आपको बता रहें हैं, एक्सरसाइस करने के वह फायदे, जिन्हें जानने के बाद आप इसके लिए बहाने नहीं ढूंढेंगे।


एक्सरसाइज करने से तनाव व डिप्रेशन के साथ ही अन्य मानसिक समस्याएं खत्म हो जाती है। एक शोध के अनुसार नियमित एक्सरसाईज का असर एंटीडिप्रेशन दवा की तरह होता है। सप्ताह में कुछ दिन लगभग आधा घंटा एक्सरसाईज करने से डिप्रेशन के लक्षणों में सुधार आता है।
त्वचा को खूबसूरत और जवान बनाए रखने में सबसे प्रभावकारी उपाय एक्सरसाईज ही है। एक्सरसाइज करने पर रक्तसंचार तेज होता है, जिससे त्वचा पर तेज और चमक बढ़ जाती है, और त्वचा स्वस्थ व जवां नजर आती है। और आपकी त्वचा में प्राकृतिक चमक भी आती ह

https://www.gyansager.in/?m=1 ओर जानकारी के लिए हमरे लींक पर क्लिक कीजिए।।

त्वचा को खूबसूरत और जवान बनाए रखने में सबसे प्रभावकारी उपाय एक्सरसाईज ही है। एक्सरसाइज करने पर रक्तसंचार तेज होता है, जिससे त्वचा पर तेज और चमक बढ़ जाती है, और त्वचा स्वस्थ व जवां नजर आती है। और आपकी त्वचा में प्राकृतिक चमक भी आती है।
नियमित एक्सरसाइज करने से मेटाबॉलिज्म बढ़ता है और एक्सरसाईज के बाद आराम करते समय भी कैलोरी बर्न होती है, जिससे तेजी से वजन कम होता है। इसके अलावा एक्सरसाईज आपकी बढ़ती उम्र की गति को धीमा करके आपको अधिक समय तक जवान बनाए रखने में मदद करती है।


  एक्सरसाइज करने से तनाव व डिप्रेशन के साथ ही अन्य मानसिक समस्याएं खत्म हो जाती है। एक शोध के अनुसार नियमित एक्सरसाईज का असर एंटीडिप्रेशन दवा की तरह होता है। सप्ताह में कुछ दिन लगभग आधा घंटा एक्सरसाईज करने से डिप्रेशन के लक्षणों में सुधार आता है।

 नियमित एक्सरसाइज करने से मेटाबॉलिज्म बढ़ता है और एक्सरसाईज के बाद आराम करते समय भी कैलोरी बर्न होती है, जिससे तेजी से वजन कम होता है। इसके अलावा एक्सरसाईज आपकी बढ़ती उम्र की गति को धीमा करके आपको अधिक समय तक जवान बनाए रखने में मदद करती है।
त्वचा को खूबसूरत और जवान बनाए रखने में सबसे प्रभावकारी उपाय एक्सरसाईज ही है। एक्सरसाइज करने पर रक्तसंचार तेज होता है, जिससे त्वचा पर तेज और चमक बढ़ जाती है, और त्वचा स्वस्थ व जवां नजर आती है। और आपकी त्वचा में प्राकृतिक चमक भी आती है।




कितनी देर तक वर्कआउट करना चाहिए – Maximum time for workout in Hindi


आपको प्रतिदिन कितने समय तक वर्कआउट करना चाहिए, यह बात आपकी रिकवरी पीरियड और आपके द्वारा लिए जाने वाले पोषक तत्वों पर निर्भर करता है। वास्तव में स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि रोजाना 30 से 90 मिनट से अधिक वर्कआउट नहीं करना चाहिए। लंबा वर्कआउट करने से शरीर को फायदे की जगह नुकसान अधिक होने लगता है। जिसके कारण आप इंसोमेनिया, भूख की कमी, थकान, महिलाओं में एस्ट्रोजन की कमी सहित कई मानसिक समस्याओं का भी शिकार होने लगते हैं।

वर्कआउट के दौरान हमारी मांसपेशियां ईंधन के लिए कार्बोहाइड्रेट का उपयोग करती हैं, जो आम तौर पर ग्लाइकोजन के रूप में आता है। बार-बार लंबी अवधि के प्रशिक्षण के परिणामस्वरूप बहुत कम ग्लाइकोजन स्टोर हो पाता है और कार्टिसोल निकल जाता है जिससे शरीर के फिटनेस पर इसका प्रभाव पड़ता है।

तनाव दूर करने में वर्कआउट के फायदे – Workout Benefits for Reduce stress  in Hindi


विशेषज्ञों का मानना है कि जिम जाकर नियमित वर्कआउट करने से तनाव कम होता है। वर्कआउट का यह सबसे बड़ा फायदा है। जिम में पसीना बहाने से मस्तिष्क में नोरपाइनफ्रिन( norepinephrine) नामक रसायन की सांद्रता बढ़ती है जिसके कारण मानसिक तनाव कम होता है। इसके अलावा वर्कआउट करने वाले व्यक्ति के अंदर परेशानियों से निपटने की क्षमता विकसित होती है।

जिम जाने की सही उम्र - Gym jane ka sahi umar


बच्चों को वयस्कों की तरह ही एक्सारसाइज करने की जरूरत होती है। इसलिए 2 साल की उम्र से ही बच्चों को व्यायाम करना सिखाएं। अमरीका के "रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र" के अनुसार, बच्चों को रोजाना 1 घंटे व्यायाम करना चाहिए। नियमित रूप से व्यायाम करने से बच्चों में तनाव कम होता है, आत्मविश्वास बढ़ता है, वजन संतुलित रहता है, स्वास्थ्य बेहतर रहता है और अच्छी नींद आती है। लेकिन इस बात का ध्यान रहे कि बच्चों को अपने उम्र के हिसाब से व्यायाम करना चाहिए और जिम जाना चाहिए।

2 से 3 साल के बच्चों के लिए एक्सरसाइज -

2 से 3 साल के बच्चों को रनिंग, जंम्पिंग और उछल-कूद जैसे खेल खिलाएं। ध्यान रहे रनिंग और उछल-कूद तनाव युक्त न हों। इसके अलावा बच्चों को स्विमिंग भी करा सकते हैं। इसके साथ ही साथ बच्चों को पूरे शरीर के बारे में भी बताएं। 2 से 3 साल के बच्चों को स्ट्रेचिंग न करने दें, क्योंकि इनकी हड्डियां बहुत कमजोर होती हैं। स्ट्रेचिंग के दौरान हड्डी टूट सकती है या चोंट लग सकती है।

13 से 18 साल के बच्चे वयस्कों के बराबर व्यायाम कर सकते हैं। इस उम्र में आप जिम जाना शुरू कर सकते हैं। जिम में आप जॉगिंग, स्विमिंग, जिम जाना (वेट लिफ्टिंग) जैसे एक्सरसाइज भी कर सकते हैं। इसके अलावा फुटबॉल, बॉस्केट बॉल, कुश्ती जैसे खेल भी खेल सकते हैं।

13 से 18 साल का किशोर जिम में व्यायाम कर सकता है और अपने मसल्स को मजबूत बना सकता, लेकिन ध्यान रहे व्यायाम ट्रेनर के देख-रेख में ही करें।

Post a Comment

0 Comments